नवीनतम लेख

न्याय के बिना समाज में अमन व शाँति कायम नहीं हो सकती । उबैदुल्लाह...

0
ख़ानक़ाह-ए-आरिफ़िया, सैय्यद सरावाँ अमन व शांति का पैग़ाम इंसानियत के नाम कांफ्रेंस का आयोजन सैय्यद सरावाँ / 3 नवंबर 2019 न्याय और हक़ को अदा किये...

जामिया आरफिया का शहीदों के सपनों का भारत बनाने का वचन

1
इस मौके पर हसन सईद और प्रिंसिपल जामिया आरफिया सैयद सरावां व दूसरे जिम्मेदारों ने तिरंगे को फहराया और देश की कामयाबी और उन्नति...

इस्लाम सभी इंसानों की सुरक्षा की ज़मानत देता है: मौलाना आरिफ इकबाल

0
खानकाह ए अरिफिया में सुल्तानुल अरिफ़ीन मख़दूम शाह आरिफ़ सफ़ी मोहम्मदी का 120वां उर्स इस्लाम प्रेम, रवादारी,  और आपसी सद्भाव का नाम है। इस्लाम केवल...

मशाइखे चिश्त ने हमेशा हिन्दुस्तानी मिज़ाज की रियायत की है: ज़ीशान अहमद मिस्बाही

0
जामिया आरिफिया में जशने ख्वाजा महाराजा का प्रोग्राम ख्वाजा ग़रीब नवाज़ हज़रत मोइनुद्दीन हसन चिश्ती हिन्दुस्तानियों के बहुत बड़े मोहसिन हैं । जिन्होंने पहले हिन्दुस्तानी...

जामिया अरिफिया में ग़ज़ाली डे का तेरहवां वार्षिक शैक्षिक और सांस्कृतिक प्रतियोगिता समाप्त हुआ।

0
 प्रतियोगिता में सफल छात्रों को जामिया के संस्थापक दाई ए इस्लाम के हाथों सर्टिफिकेट और शील्ड से सम्मानित किया गया। जामिया अरिफिया, सय्यद सरावां में 25 दिसंबर...

इंसानी जानों की हिफ़ाज़त आज की दुनिया का सब से बड़ा चैलेंज है। -मुफ़्ती...

0
खानकाह अरिफिया, सय्यद सरावां में 'अमन व शांति का पैग़ाम इन्सानियत के नाम' के उन्वान से "रह्मतुल्लिल आलमीन कांफ्रेंस" का आयोजनऔर पैग़म्बर ए इस्लाम की जीवनी की रौशनी में मानवता को बढ़ावा देने के लिए उलमा के बयानात आज की दुनिया में मज़हब, इलाक़ा, रंग व नस्ल और ज़ात-पात के नाम पर जिस बे-हमी से इंसानी ख़ून को बहाया जा रहा है...

रहमान के बन्दे लोगों की ज़रूरत पूछते हैं, उन का धर्म और मसलक नहीं!

0
सैयद सरावां, इलाहाबाद में आयोजित उर्स-ए-आरफ़ी में उलमा का इज़हार-ए-ख़याल  अल्लाह रब्बुल इज्ज़त क़ुराने करीम में अपने ख़ास बन्दों की अलामत का ज़िक्र करते हुए...

रमज़ान हर बन्दें के लिए नेमत

0
अल्लाह तआला फरमाता है : रमज़ान के महीने में कुरआन नाज़िल किया गया । (सूरह बकरा 185) इस आयत में ग़ौर करने से मालूम होता...

अल्लाह की किताबों का अक़ीदा

0
मैं अकीदा रखता हूँ कि जो सहीफे पैगम्बरों पर नाज़िल हुए हैं, हक़ हैं । और उनकी तसरीह जिस तरह हदीसों से साबित है...