Friday, November 25, 2022

Hindi News

न्याय के बिना समाज में अमन व शाँति कायम नहीं हो सकती । उबैदुल्लाह खान आज़मी

ख़ानक़ाह-ए-आरिफ़िया, सैय्यद सरावाँ अमन व शांति का पैग़ाम इंसानियत के नाम कांफ्रेंस का आयोजन सैय्यद सरावाँ / 3 नवंबर 2019 न्याय और हक़ को अदा किये बिना, कानून और व्यवस्था का तसव्वुर मुहाल है । यदि कोई दीन-धर्म और अपने पराये...

जामिया आरफिया का शहीदों के सपनों का भारत बनाने का वचन

इस मौके पर हसन सईद और प्रिंसिपल जामिया आरफिया सैयद सरावां व दूसरे जिम्मेदारों ने तिरंगे को फहराया और देश की कामयाबी और उन्नति के लिए दुआ की. उन्होंने कहा कि भारत की आजादी के लिए सभी समुदाय के...

इस्लाम सभी इंसानों की सुरक्षा की ज़मानत देता है: मौलाना आरिफ इकबाल

खानकाह ए अरिफिया में सुल्तानुल अरिफ़ीन मख़दूम शाह आरिफ़ सफ़ी मोहम्मदी का 120वां उर्स इस्लाम प्रेम, रवादारी,  और आपसी सद्भाव का नाम है। इस्लाम केवल मुस्लिम क़ौम की नहीं, बल्कि सभी मनुष्यों की ज़िन्दगी, संपत्ति और इज्ज़त के सुरक्षा की...

मशाइखे चिश्त ने हमेशा हिन्दुस्तानी मिज़ाज की रियायत की है: ज़ीशान अहमद मिस्बाही

जामिया आरिफिया में जशने ख्वाजा महाराजा का प्रोग्राम ख्वाजा ग़रीब नवाज़ हज़रत मोइनुद्दीन हसन चिश्ती हिन्दुस्तानियों के बहुत बड़े मोहसिन हैं । जिन्होंने पहले हिन्दुस्तानी लोगों के दिलों को फतह किया उसके बाद उस दिल में तौहीद व रिसालत का...

जामिया अरिफिया में ग़ज़ाली डे का तेरहवां वार्षिक शैक्षिक और सांस्कृतिक प्रतियोगिता समाप्त हुआ।

 प्रतियोगिता में सफल छात्रों को जामिया के संस्थापक दाई ए इस्लाम के हाथों सर्टिफिकेट और शील्ड से सम्मानित किया गया। जामिया अरिफिया, सय्यद सरावां में 25 दिसंबर से 29 दिसंबर के बीच छात्रों का वार्षिक शैक्षणिक और सांस्कृतिक प्रतियोगिता समाप्त हुआ। जमीयत-अल-तलबा द्वारा आयोजित गज़ाली...

इंसानी जानों की हिफ़ाज़त आज की दुनिया का सब से बड़ा चैलेंज है। -मुफ़्ती मुहम्मद किताबुद्दीन रिज़वी

खानकाह अरिफिया, सय्यद सरावां में 'अमन व शांति का पैग़ाम इन्सानियत के नाम' के उन्वान से "रह्मतुल्लिल आलमीन कांफ्रेंस" का आयोजनऔर पैग़म्बर ए इस्लाम की जीवनी की रौशनी में मानवता को बढ़ावा देने के लिए उलमा के बयानात आज की दुनिया में मज़हब, इलाक़ा, रंग व नस्ल और ज़ात-पात के नाम पर जिस बे-हमी से इंसानी ख़ून को बहाया जा रहा है वो हम सब के लिएबहुत चिंता का विषय है। क़ुरान ने एक जान के नाहक़...

रहमान के बन्दे लोगों की ज़रूरत पूछते हैं, उन का धर्म और मसलक नहीं!

सैयद सरावां, इलाहाबाद में आयोजित उर्स-ए-आरफ़ी में उलमा का इज़हार-ए-ख़याल  अल्लाह रब्बुल इज्ज़त क़ुराने करीम में अपने ख़ास बन्दों की अलामत का ज़िक्र करते हुए फरमाता है "रहमान के बन्दे, ज़मीन पर नरमी के साथ चलते हैं और जब जाहिल...

सामान्य मामलों के आधार पर सभी भारतीयों का इत्तेहाद संभव हैं

तौहीद और मानवता सभी धर्मों में सामान्य है: ख़ानक़ाह ए आरिफ़िया में आयोजित राष्ट्रीय एकता सम्मलेन कार्यक्रम में स्वामी अग्नि वेश का इज़हार ए ख्याल ख़ानक़ाह ए आरिफ़िया, सैय्यद सरावां, कौशाम्बी भारत में गंगागंगा जमनि तहज़ीब यहाँ के सूफियों और संतों...

देश के सामूहिक विकास के लिये तमाम मज़हब के लोगों का आपस में इत्तेफाक ज़रूरी है

खानकाह ए आरिफिया, सैय्यद सरावां में पीस कांफ्रेंस कार्यक्रम में उलमा व दानिश्वरों का इजहारे ख्याल, अलएहसान:8 और खिजरे राह (हिंदी) की रुनुमाई । जामिया आरिफिया, सैय्यद सरावां, इलाहाबाद हिंदुस्तान की गंगा जमनी तहज़ीब यहाँ के सूफी और संतों का धर्म है । उन्होंने ही यहां अमन और शांति का...
- Advertisement -spot_img

Latest News

فریاد ببارگاہ خیر العبادﷺ

نتیجۂ فکر: ذیشان احمد مصباحی کس قدر مشک اور عنبر میں نہائی ہوئی ہے صبحِ میلاد بھی کس شان سے آئی...